Select Page

मन्त्रमार्तण्ड

गणपतिसूक्तम्‌

ॐ ग॒णानां᳚ त्वा ग॒णप॑तिं हवामहे क॒विं क॑वी॒नामु॑प॒मश्र॑वस्तमम्।
ज्ये॒ष्ठ॒राजं॒ ब्रह्म॑णां ब्रह्मणस्पत॒ आ नः॑ श‍ृ॒ण्वन्नू॒तिभि॑: सीद॒ साद॑नम्।।

निषुसी᳚द गणपते ग॒णेषु॒ त्वामा᳚हु॒र्विप्र॑तमं कवी॒नाम्।
न ऋ॒ते त्वत्क्रि॑यते॒ किं च॒नारे म॒हाम॒र्कं म॑घवञ्चि॒त्रम॑र्च।।

आ तू न॑ इन्द्र क्षु॒मन्तं᳚ चि॒त्रं ग्रा॒भं सं गृ॑भाय।
म॒हा॒ह॒स्ती दक्षि॑णेन।।

वि॒द्मा हि त्वा᳚ तुविकू॒र्मिं तु॒विदे᳚ष्णं तु॒वीम॑घम्।
तु॒वि॒मा॒त्रमवो᳚भिः।।

न॒हि त्वा᳚ शूर दे॒वा न मर्ता॑सो॒ दित्स᳚न्तम्।
भी॒मं न गां वा॒रय᳚न्ते।।

एतो॒ न्विन्द्रं॒ स्तवा॒मेशा᳚नं॒ वस्व॑: स्व॒राज᳚म्।
न राध॑सा मर्धिषन्नः।।

प्रस्तो᳚ष॒दुप॑ गासिष॒च्छ्रव॒त्साम॑ गी॒यमा᳚नम्।
अ॒भि राध॑सा जुगुरत्।।

आ नो᳚ भर॒ दक्षि॑णेना॒भि स॒व्येन॒ प्र मृ॑श।
इन्द्र॒ मा नो॒ वसो॒र्निर्भा᳚क्।।

उप॑ क्रम॒स्वा भ॑र धृष॒ता धृ॑ष्णो॒ जना᳚नाम्।
अदा᳚शूष्टरस्य॒ वेद॑:

इन्द्र॒ य उ॒ नु ते॒ अस्ति॒ वाजो॒ विप्रे᳚भिः॒ सनि॑त्वः।
अ॒स्माभिः॒ सु तं स॑नुहि।।

स॒द्यो॒जुव॑स्ते॒ वाजा᳚ अ॒स्मभ्यं᳚ वि॒श्वश्च᳚न्द्राः।
वशै᳚श्च म॒क्षू ज॑रन्ते।।